तकनीकिमुख्य समाचार

कोरोना संकट के बीच फेसबुक की बड़ी डील, करोड़ों का निवेश करने का किया ऐलान !!!

Reliance Jio में 9.99 %(43,574 करोड़) हिस्सेदारी

नई दिल्ली   फेसबुक मुकेश अंबानी की जियो में 43,574 करोड़ रुपए का निवेश करेगी। इस निवेश के बाद जियो में फेसबुक की हिस्सेदारी 9.99% हो जाएगी। भारतीय टेक्नाेलॉजी सेक्टर में यह सबसे बड़ा एफडीआई है। दोनों कंपनियों के बीच इस डील के बाद जियो का वैल्यूएशन 4.62 लाख करोड़ रुपए का हो जाएगा। यह मूल्यांकन डॉलर के मुकाबले रुपए को 70 मानकर किया गया है। नियामक की मंजूरी मिलने के बाद फेसबुक, जियो में सबसे बड़ी शेयरहोल्डर बन जाएगी।

 भारत में करीब 100 करोड़ मोबाइल यूजर हैं। फेसबुक के लिए भी भारत सबसे बड़ा बाजार है। फेसबुक की सब्सिडियरी वॉट्सऐप के भी भारत में 40 करोड़ यूजर हैं। रिलायंस जियो के देश में 38.8 करोड़ यूजर हैं। डील के बाद भी रिलायंस जियो इन्फोकॉम जियो फ्लेटफॉर्म की पूर्ण स्वामित्व वाली इकाई बनी रहेगी।

इस सौदे से रिलायंस इंडस्ट्रीज समूह को अपने कर्ज का बोझ कम करने में मदद मिलेगी तथा फेसबुक की भारत में स्थिति और मजबूत होगी। उसके लिए उपयोगकर्ताओं आधार के लिहाज से भारत इस समय भी सबसे बड़ा बाजार है।

रिलायंस इंडस्ट्रीज के दूरसंचार नेटवर्क जियो की शत प्रतिशत हिस्सेदारी जियो प्लेटफार्म्स लिमिटेड के पास है। बयान में कहा गया है कि जियो प्लेटफार्म्स में फेसबुक की हिस्सेदारी 9.99 प्रतिशत होगी।जियो प्लेटफार्म्स, रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) के पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी है, जो तमाम प्रकार की डिजिटल सेवाएं प्रदान करती है। इसके ग्राहकों की संख्या 38.8 करोड़ से अधिक है। आरआईएल द्वारा अपने कर्ज को कम करने के प्रयासों के तहत फेसबुक के साथ यह सौदा किया गया है। इसके लिए आरआईएल अपने व्यवसायों में रणनीतिक भागीदारी की तलाश कर रही है।

 मुकेश अंबानी की कंपनी में फेसबुक की 9.99% हिस्सेदारी हो जाएगी जियो में 43,574 करोड़ रु. निवेश करेंगे जुकरबर्ग,

टेक कंपनी में माइनॉरिटी हिस्से के लिए दुनिया भर में यह सबसे बड़ा निवेश फेसबुक और जियो के बीच पार्टनरशिप कई मामलों में महत्वपूर्ण है। किसी टेक्नोलॉजी कंपनी में माइनॉरिटी हिस्सेदारी के लिए दुनिया भर में यह सबसे बड़ा निवेश है। भारतीय टेक्नोलॉजी सेक्टर में यह सबसे बड़ी एफडीआई है। मार्केट कैपटीलाइजेशन की बात करें तो जियो की पैरेंट कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज टॉप पर है। 2016 में शुरू हुई जियो का पूरा नेटवर्क 4जी पर आधारित है जबकि दूसरी कंपनियों के पास 2जी, 3जी और 4जी का मिश्रण है। इस डील के बाद जियो का वैल्यूएशन 4.62 लाख करोड़ रुपए का हो जाएगा।

कंपनी द्वारा प्रेस रिलीज में रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने कहा है कि जियो और फेसबुक के बीच साझेदारी से प्रधानमंत्री के डिजिटल इंडिया मिशन को और मजबूती मिलेगी। इससे ईज ऑफ लिविंग और ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में भी सुविधा होगी। कोरोना के बाद देश की अर्थव्यवस्था तेजी से विकास करेगी और जियो-फेसबुक के बीच हुई यह साझेदारी इसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।

मार्क जुकरबर्ग ने कहा कि इस समय दुनिया में बहुत कुछ चल रहा है, लेकिन भारत में काम करने के बारे में एक अपडेट देना चाहता हूं। फेसबुक, जियो प्लेटफॉर्म के साथ पार्टनरशिप कर रही है और फेसबुक, जियो में निवेश करेगी। इसके अलावा फेसबुक और जियो साथ मिलकर दूसरे प्रोजेक्ट पर भी काम करेंगी जिससे भारत में लोगों को व्यापारिक अवसर मिलेंगे। देश डिजिटल बदलाव के दौर में है और इसमें जियो ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

फेसबुक के साथ पार्टनरशिप पर रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर मुकेश अंबानी ने कहा, “2016 में जब हमने जियो की शुरुआत की थी तो हमने एक सपना देखा था। ये सपना था भारत के ‘डिजिटल सर्वोदय’ का। ये सपना था भारत में एक ऐसी समावेशी डिजिटल क्रांति का जिससे हर भारतीय की जिंदगी बेहतर हो सके। सपना, एक ऐसी क्रांति का जो उसे ‘डिजिटल दुनिया’ के शिखर तक पहुंचा सके। इसलिए भारत के डिजिटल इकोसिस्टम को विकसित करने और बदलने के लिए हम अपने दीर्घकालिक साझेदार के रूप में फेसबुक का स्वागत करते हैं। जियो और फेसबुक के बीच तालमेल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के डिजिटल इंडिया के सपने को साकार करने में मदद करेगा।”

टीम जनआवाज़
नई दिल्ली

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *